ठगों ने कानपुर में योजना का हवाला देकर बेच डाले लाखों जाली फार्म

डाकघर में फार्म जमा करने पहुंची भीड़ ने ठगे जाने पर किया हंगामा, पुलिस ने कराया शांत

कानपुर, 14 मार्च (उदयपुर किरण). शहर में ‘बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ’ के नाम पर फर्जी योजना के तहत कुछ ठगों ने दो लाख रुपये दिलाने वाले लाखों फॉर्म बेच दिए. इस योजना का लाभ लेने के लिए जनपद में हजारां की संख्या में महिलाओं और छात्राओं फार्म भरकर डाकखाने में जमा करने पहुंचे तब मामले का खुलासा हुआ. जानकारी पर लोगों ने जमकर हंगामा काटा. पुलिस ने भीड़ को शांत कराया.

जालसाज व ठग गिरोह ने कानपुरवासियों को ठगने का नायाब तरीका निकाला है. ठग गिरोह में ‘बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ’ के नाम पर एक फार्म निकाला. फार्म की जमकर बिक्री की गई. गुरुवार को फार्म जमा करने की अंतिम तारीख थी. जिसके चलते सैकड़ों की भीड़ बड़ा चौराहे स्थित मुख्य डाकघर पहुंचे. यहां फार्म देखकर काउंटर पर बैठे डाकघर कर्मचारियों को शक हुआ और उन्होंने मामले का पता किया. जिस पर जिलाधिकारी व जिलप्रोबेशन अधिकारी ने इस तरह की कोई भी योजना न होने की बात कहते हुए फार्म जमा करने से मना कर दिया. इसको लेकर फार्म जमा करने पहुंचे लोगों ने हंगामा शुरु कर दिया. सूचना पर पुलिस पहुंची और हंगामा कर रहे लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराते हुए कार्यवाही का आश्वासन दिया.

फर्जी फॉर्म लेकर कल्याणपुर से आयी इंटर की छात्रा प्रिया ने बताया कि उसको पता चला था कि ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ योजना के तहत प्रधानमंत्री कार्यालय से एक योजना शुरु की गयी है. जिसमें 8 से 32 वर्ष तक की बेटियों को 2 लाख रुपये दिए जाएंगे. इसका फॉर्म वह कचहरी की एक शुक्ला फोटो स्टूडियो व फॉर्म वाली दुकान से लायी थी. जिसे भरकर दिल्ली के पते पर भेजना था. पर अब पता लगा कि यह फॉर्म फर्जी है. साथ ही अमित गुप्ता नाम के युवक ने बताया कि उसकी मां ने भी दो फॉर्म शुक्ला फोटो वाले के यहां से लेकर भरे थे. यह शुक्ला फोटो कापी वाले ने ही हजारों फॉर्म बेचे हैं. जिसकी शिकायत अधिकारियों से की है.

मामले में डाकघर चीफ पोस्टमास्टर मनोज कुमार मिश्रा ने बताया कि गुरुवार को डाकघर में सैकड़ों की भीड़ एक फर्जी फॉर्म जमा करने पहुंची. जिसकी सूचना अधिकारियों के पास होने पर डाक विभाग ने फॉर्म फर्जी होने की बात बताई और लोगों को वापस जाने के लिए कहा. जिस पर कुछ महिलाओं ने हंगामा शुरू कर दिया जिसकी सूचना पर पुलिस फोर्स पहुंची और लोगों को शांत कराया. इस मामले पर अधिकारियों द्वारा फर्जी फॉर्म छपवाकर बेचने वाले पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की जा सकी है. मामले में कोतवाली पुलिस उपाधीक्षक राजेश पांडेय ने बताया कि किसी की ओर से तहरीर नहीं मिली है, तहरीर मिलने पर कार्यवाही की जाएगी.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *