रेलवे ने ट्रेनों में शुरू की पीओएस मशीनों से खाद्य पदार्थों की बिलिंग

नई दिल्ली, 26 जनवरी (उदयपुर किरण). भारतीय रेलवे ने ट्रेनों में पॉइंट आफ सेल (पीओएस) मशीनों के जरिए खाने—पीने के सामान की बिलिंग अनिवार्य कर दी है. इसका मकसद मेन्यू में तय मूल्य से अधिक रकम वसूलने की शिकायतों पर अंकुश लगाकर इसमें पारदर्शिता लाना है. चलती ट्रेनों में अब यात्री खाद्य पदार्थों की खरीद के बाद पीओएस मशीनों से भुगतान कर सकेंगे. यह न केवल यात्री को प्रासंगिक जानकारी के बारे में जागरूक करने में मदद करेगी बल्कि यात्री संतुष्टि में भी सुधार होगा. रेलवे को दावा है कि इससे ओवरचार्जिंग की शिकायतों में काफी कमी आएगी.

कैटर्स द्वारा पीओएस मशीन से बिल नहीं देने पर या फिर मशीन नहीं होने की स्थिति में उन पर एक लाख रुपये तक का जुर्माना किया जाएगा. यदि बार—बार किसी कैटर्स के खिलाफ इस प्रकार की शिकायतें आती हैं तो उसका टेंडर तक रद्द कर दिया जाएगा. पीओएस मशीनों से भुगतान हो रहा है, यह सुनिश्चित करने के लिए रेलवे सभी मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में विशेष निरीक्षण अभियान भी चला रहा है. वर्तमान में 2191 पीओएस मशीनें पेंट्री कार वाली गाड़ियों में उपलब्ध कराई गई हैं.

आईआरसीटीसी के प्रवक्ता सिद्धार्थ सिंह ने बताया कि यह सुविधा ट्रेनों में शुरू कर दी गई है. उन्होंने बताया कि सामान के रेट को लेकर अक्सर शिकायतें आती थीं. इन्हें दूर करने के लिए ही यह शुरुआत की गई है. पीओएस मशीनों में मेन्यू भी उपलब्ध होगा. इससे दर्ज मूल्य ही उपभोक्ता को बिल में मिलेगा. उन्होंने बताया कि यात्री नकद के साथ ही पेटीएम सहित तमाम डिजिटल माध्यम से भी भगुतान कर सकेंगे. रेलवे ने इसके लिए एप्प भी तैयार किया है.

http://udaipurkiran.in/hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *