लोकसभा चुनाव के दौरान आयकर विभाग ने 2.49 करोड़ रुपये किये जब्त

0
2

रांची,17 मई (उदयपुर किरण). झारखंड में इस वित्तीयवर्ष में अब तक हुए कुल 175 सर्वे में 100.84 करोड़ रुपये की अघोषित आय का आकलन किया गया है.  रांची के प्रधान आयकर आयुक्त आरएन सहाय ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेस में यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इसमें से 7.33 करोड़ का कर भुगतान हो चुका है. उन्होंने बताया कि लोकसभा चुनाव के दौरान विभाग की ओर से 2.49 करोड़ रुपये जब्त किये गये है. इसमें सबसे अधिक राशि हजारीबाग संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार के पास से 21 लाख रुपये जब्त किये गये. इसकी जांच अभी चल रही है.

सहाय ने उन करदाताओं की सराहना की है जिन्होंने ईमानदारी पूर्वक अपना कर भुगतान करके राष्ट्र निर्माण में सहयोग दिया हैं. उन्होंने कहा कि करदाताओं का विभाग सदा इज्जत करता है. जो कर की चोरी करते हैं उनको आयकर विभाग के विभिन्न धाराओं के अंतर्गत दंडित भी किया जाता है. उन्होंने कहा कि जिन्होंने अनैतिक रूप से पैसे बैंक में जमा किए हैं और उसकी जानकारी विभाग को नहीं दी है, उनके खिलाफ इस वित्तीय वर्ष  में 86 मामलों में अभियोजन दायर किया जा चुका है. इसमें वित्तीय वर्ष 2016-2017 की तुलना में 1333.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. वित्तीय वर्ष 2018-19 में झारखंड राज्य में नए कर दाता बनाने के लिए निर्धारित लक्ष्य 2,10,790 है. अभी तक झारखंड में 1,90,45091 आयकरदाता जुड़े हैं. जो लक्ष्य का 90.53 प्रतिशत है. यह एक अच्छी उपलब्धि है. पूरे देश में नए करदाताओं की संख्या बढ़ाने में बिहार और झारखंड दूसरे स्थान पर है. वित्तीय वर्ष 2015-2016, 2016-2017 में नये करदाताओं की संख्या जहां क्रमश: 54961,225231 और 177038 थी.

वहीं वर्ष 2018-19 में नये कारदाताओं की संख्या 206390 हो गयी है. यह वित्तीय वर्ष 2015-16 की तुलना में 275.5 प्रतिशत की वृद्धि है. पूरे देश में प्रथम पांच क्षेत्र का नाम इस प्रकार है. जिन्होंने  नये करदाताओं की संख्या में बढ़ोत्तरी की है.  इनमें प्रधान मुख्य आयकर आयुक्त उत्तर पूर्व क्षेत्र, बिहार एवं झारखंड, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़, उत्तरप्रदेश और राजस्थान शामिल है. उन्होंने कहा कि करदाताओं के उत्कृष्ठ योगदान के लिए रांची आयकर विभाग सुविधा देने के लिए हमेशा तत्पर हैं. उन्होंने कहा कि विभाग की ओर से समय-समय पर जागरुकता अभियान चलाया जाता है. 16 मई से 31 मई तक एक विशेष पखवाड़ा का आयोजन किया गया है. इस अवधि के दौरान सभी पदाधिकारी अपील और सुधार आदेशों को पारित करने को  सर्वोच्च प्राथमिकता देंगे. प्रेस कांफ्रेस में संयुक्त आयकर आयुक्त मनीष झा, आयकर संयुक्त निदेशक एक के मोहंती, संयुक्त आयकर आयुक्त निशा उंराव सिंहमार सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे.

https://udaipurkiran.in/hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here